Navratri 2020: इस नवरात्रि करे ये 5 काम देवी मां की बरसेगी कृपा

 Navratri 2020: इस नवरात्रि करे ये 5 काम देवी मां की बरसेगी कृपा

नवरात्रि 2020 आरंभ में अब कुछ ही दिन शेष बचे हुए हैं, सरकार की तरफ से पंडालों को मंजूरी मिलने के बाद उनके काम जोर-शोर से चल रहे हैं। घर में भी मां की आराधना के लिए तैयारियां शुरू हो चुकी है। आज हम आपको बताने वाले हैं पांच ऐसे टिप्स जिसे करने के बाद मां भगवती शक्ति की कृपा आप सब पर बरसने लगेगी। इसीलिए इस नवरात्रि (Navratri 2020) करे ये काम तो देवी मा की कृपा आप पर भी बरसेगी।
Navratri 2020 : 5 tips to stay blessed


कब से शुरू होगी नवरात्रि (Navratri 2020 date):

प्रत्येक वर्ष श्राद्ध पक्ष खत्म होने के साथ ही नवरात्रि का आरंभ हो जाता था लेकिन इस बार अधिमास / मलमास लगने के कारण नवरात्रि का पर्व कुछ दिन देर से शुरू हो रहा है।

शारदीय नवरात्रि 2020 का आरंभ 17 अक्टूबर अश्विन मास के शुक्ल पक्ष के पहली तिथि (प्रतिपदा) से हो जाएगा। कलश स्थापना के साथ ही नवरात्रि का आरंभ हो जाता है। ज्योतिष के अनुसार कलश स्थापना का सबसे शुभ समय 17 अक्टूबर दिन शनिवार को प्रातः काल में 6 बजकर 27 मिनट से लेकर 10 बजकर 13 मिनट तक का है।

नवरात्रि में माँ को खुश करने के 5 तरीके :

नवरात्रि में मा के नौ स्वरूपों की आराधना की जाती है, सभी भक्त जन मा को खूब करने के लिए सभी तरीके अपनाते है। कुछ भक्त मा के लिए नौ दिन का व्रत रखते है तो कुछ कलश स्थापना करते है। कुछ भक्त सिर्फ मन में मा को श्रद्धा सहित पूजा करते है। सबकी अपनी अपनी श्रद्धा है लेकिन हम आपको आज बताने का रहे है कुछ ऐसे तरीके जिसे यदि आप मानते है तो निश्चित ही मां भवानी की कृपा दृष्टि आप पर बनी रहेगी।

चमड़े से बनी वस्तुओं से दूरी बनाए :

इस नवरात्रि के नौ दिन आपको चमड़े से बनी किसी भी वस्तु से दूरी बनाए रखनी है, उसे नहीं धारण करना है। यदि ऐसी वस्तुओं का आप पहले से ही इस्तेमाल कर रहे है तो ध्यान रखे की पूजा स्थल में जाने से पहले उन्हें उतार दें। पूजा के नियमों पर का ध्यान दे।

व्रत के नियमों का अनुसरण करें :

पूजा आदि कर्म में व्रत के नियमों का बहुत महत्वपूर्ण स्थान होता है। यदि आप व्रत के नियमों का पालन सही ढंग से करते है तो मा भवानी की कृपा आप पर बरसेगी। यदि आप व्रत के सभी नियमों को भी जानना चाहते है यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं। काले वस्त्र का किसी भी तरह से धारण ना करे। लाल रंग मा को बहुत प्यार लगता है, और इसे शुभ भी माना गया है,यदि सम्भव हो तो इसे है प्रयोग करे।

व्रत उपवास और उपासना में क्या अंतर है? इसे भी पढ़े

खान पान में विशेष ध्यान दे:

नवरात्रि के आरंभ होते हैं बाजार में लगभग हर होटल और रेस्त्रा में नवरात्रि की स्पेशल थाली मिलनी शुरू हो जाती है, किसी भी होटल में खाना खाने से पहले ये जरूर जांच ले कि कहीं खाने में लहसुन, प्याज का उपयोग तो नहीं किया का रहा है। नवरात्रि में लहसुन और प्याज के खाने पे पूर्णतः पाबन्दी होती है। खाना खाने से पहले पूरी साफ सफाई का ध्यान दे। यदि 9 दिन के लिए पूरी तरह से लहसुन प्याज का त्याग कर दे तो ज्यादा बेहतर होगा।

खुद पर रखे नियंत्रण :

नवरात्रि के नौ दिन आपको सभी बुरे व्यसनों से दूर रहने के प्रतिबद्ध होना चाहिए जैसे मादक पदार्थो का सेवन, जुआ खेलना, झूठ बोलना, चोरी करना और संभोग करना। इन नौ दिनों में आपको ब्लेड अथवा कैची का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बाल और नाखून काटने से बचना चाहिए। यदि महिलाओं को मासिक धर्म आ रहा हो तो उन्हें साफ सफाई का विशेष ध्यान देना चाहिए या फिर कुछ दिनों के लिए माता के पंडाल में ना जाए तो और भी बेहतर होगा।

प्रसाद में अनाज का उपयोग ना करे और जौ की बुआई करे :

माता रानी के प्रसाद में कभी भी किसी भी प्रकार के अनाज का प्रयोग नहीं करना चाहिए। मिश्री, मिठाई, फल, शक्कर, आदि का प्रयोग ही प्रसाद के रूप में करना चाहिए। माता की चौकी के सामने मिट्टी के पात्र में आप जौ की बुआई कर दे, जौ के बढ़ने के साथ साथ ही आपके घर में शुख समृद्धि भी बढ़ने लगेगी। नवरात्रि में जौ बोना शुभ माना गया है। जौ को ही इस सृष्टि का पहला अनाज माना जाता है।


यहां बताए गए नियमों का यदि आप पालन करते है और सच्ची श्रद्धा के साथ मा कि उपासना करते है तो इस वर्ष की नवरात्रि (Navratri 2020) में मा भगवती की कृपा जरूर आप पर बरसेगी। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां